Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020:

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020:

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Jai Mata di

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

Contents hide

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020, Navratri is a Hindu festival and it is celebrates twice in a year. It is mention for different reasons and celebrated differently in various type of Indian cultures areas. Now we have to see what will happen in Navratri 2020.

However, in practice, it is the post-monsoon autumn festival call Sharada Navaratri. It is the most say in the honour of the divine feminine Devi Ma Durga Ji.

The festival is celebrate in the bright half of the Hindu calendar month Ashvin. It typically falls in the month of September and October.

Eastern and North Eastern Navratri-

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Bolo Sachhe Darbar Ki Jaye

In the eastern and north eastern states of India, the Durga Puja is synonymous with Navaratri.

Wherein goddess Durga battles and emerges victorious over the buffalo demon to help restore Dharma.

Celebrations include stage decorations, recital of the legend, enacting of the story, and chanting of the scriptures of Hinduism. The nine days are also a major crop season cultural event.

Competitive Designs of Pandals In Navratri-

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Navratri Pandal

Such as competitive design and staging of pandals.

A family visit to these pandals and the public celebration of classical and folk dances of Hindu culture.

On the final day, call the Vijayadashami or Dussehra the statues are immerse in a water body.

Such as river and ocean or alternatively the statues symbolizing the evil is burn with fireworks marking evil’s destruction.

The festival also starts the preparation for one of the most important and widely celebrated holidays.

Diwali, the festival of lights, which is celebrate twenty days after the Vijayadashami or Dussehra.

Navratri Dates and Celebration-

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Ma Shera Wali

According to some Hindu texts such as the Shakta and Vaishnava

Puranas, Navaratri theoretically falls twice or four times a year.

Of these, the Sharada Navaratri near autumn rainy season September–October is the most celebrated and the Vasant Navaratri near spring season March–April is the next most significant to the culture of the Indian subcontinent.

In all cases, Navaratri falls in the bright half of the Hindu intermedium months. The celebrations vary by region, leaving much to the creativity and preferences of the Hindu.

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

Sharda Navratri-

The most celebrated of the four Navaratri, named after Sharada which means autumn. It is observe the middle month of Ashwin post-monsoon, September–October.

In many regions, the festival falls after the autumn harvest, and in others during harvest.

Vasant Navratri

The second most celebrated, named after Vasant which means spring. It is observe the lunar month of Chaitra (post-winter, March–April).

In many regions the festival falls after spring harvest, and in others during harvest.

Magha Navratri-

In Magha (January–February), winter season. The fifth day of this festival is often independently observe as Vasant Panchami or Basant Panchami, because the official start of spring in the Hindu tradition goddess Saraswati is revere through arts, music, writing, kite flying. In some regions, the Hindu god of love, Kama is revere.

Ashadha Navratri-

In Ashadha (June–July), the start of the monsoon season. The Sharada Navaratri commences on the first day of the bright month of Ashwini. The festival is celebrate for nine nights once every year during this month, which typically falls in the months of September and October.

Navratri each day significance-

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Shubh Navratri

The festival is associate to the powerful that taking place between Durga and demon Mahishasura and celebrates the victory of Good over Evil. These nine days are solely dedicate to Goddess Durga and her nine Avatars . Each day is associate to a beginning of the goddess.

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

Day-1 Shailaputri Navratri-

Known as Pratipada, this day is associate with Shailaputri a beginning of Parvati. It is in this form that the Goddess is worship as the consort of the Lord Shiva.

She is partner as riding the bull, Nandi, with a trishul in her right hand and lotus in her left. Shailaputri is consider to be the direct lifestyle of Mahakali. The color of the day is red, which produce action and vigor.

Day- 2 Bharhmcharini Navratri-

On Dwitiya, Goddess Brahmacharini, another lifestyle of Parvati, is worship. In this form, Parvati became Sati, her unmarried self. Brahmacharini is worship for release or moksha, peace and prosperity.

Depicted as walking bare feet and holding a japamala and kamandal in her hands, she effect bliss and calm. Blue is the color code of this day. Blue color depicts tranquility yet strong energy.

Day-3 Chandraghanta Navratri-

Tritiya commemorates the worship of Chandraghanta – the name derived from the fact that after marrying Shiva, Parvati adorned her forehead with the ardhachandra (lit. half-moon).

She is the embodiment of beauty and is also symbolic of bravery. Yellow is the color because this is one of the third day, which is a vivacious color and can pep up everyone’s mood.

Day-4- Kushmanda Navratri-

Goddess Kushmanda worship on Chaturthi. Believe to be the creative power of the universe, Kushmanda associate with the talent of vegetation on earth and hence, the color of the day is Green. She is depict as having eight arms and sits on a Tiger.

Day-5- Skandamata Navratri-

Skandamata, the goddess worshiped on Panchami, is the mother of Skanda (or Kartikeya). The color of Grey is symbolic of the transforming strength of a mother when her child is confront with danger. She is depict riding a ferocious lion, having four arms and holding her baby.

Day- 6- Katyayani Navratri-

Born to sage Katyayana, she is an lifestyle of Durga and is shows to exhibit courage which is symbolize by the color Orange. Known as the warrior goddess.

She is consider one of the most violent forms of Devi. In this avatar, Katyayani rides a lion and has four hands. She is a form of Maha Lakshmi

Day- 7- Kalaratri- Navratri-

Consider form of Goddess Durga, Kalaratri is on Saptami. because it is believe that Parvati remove her fair skin to kill the demons Sumbha and Nisumbha.

The color of the day is White because on Saptami, the Goddess appears in a white color attire with a lot of rage in her fiery eyes, her skin turns black. The white color portrays prayer and peace and ensures because the devotees that are Goddess will protect them from harm.

Day- 8- Mahgauri- Navratri-

Mahagauri symbolizes intelligence and peace because the color associates with this day is Pink which depicts optimism.

Day-9- Siddhidhatri Navratri-

On the last day of the festival also known as Navami, people pray to Siddhidhatri. Sitting on a lotus, she is believe to possess but mom give us all types of Siddhis.

Here she has four hands. Also known as Sri Lakshmi Devi because the light blue color of the day portrays an admiration towards nature’s beauty.

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

Quotes and Wishes of Navratri- 2020
Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Durga Ma Vikraal Roop

On the auspicious occasion of Sharada Navaratri it is nice to wish all your loved ones a thoughtful message. You can send them a card, an SMS, a Whats app or simply put it up on as your status on Facebook or whichever Social Media.


Here are some


May you have a very Happy Navratri. I hope you have the best pooja and celebrations in life this year.

MAy This NAvratri free us from all pandemics
  • May the generous goddess Maa Durga brighten your life with countless blessings. I hope your prayers bring happiness and prosperity. Happy Navratri to you!
  • Though she is infiniate, do not merely take the positive energy from the goddess Durga on this Navratri, but also, make effort to remove the darkness within you and spread positivity. Have an auspicious Navratri.
  • The very best wishes for a joyous Navratri with lots joy, happiness, peace, prayer and prosperity during these auspicious days. Jai Maa Durga! Have an auspicious Navratri.
Navratri Best Wishes-
  • May the 9 forms of the great goddesss bless you on these nine days so you will be shower with Name, Fame, Health, Wealth, Happiness, Humanity, Education, Bhakti & Shakti. Have an auspicious Navratri.
  • As these nights are fill with but the colorful garba and dandiya dances I hope you enjoy this Navratri festival! May the joy of time seep into the whole year. Have an auspicious Navratri.
  • May the great Goddess Durga maa empower you and your family and all your loved ones with her nine Swaroop of Name, Fame, Health, Wealth, Happiness, Humanity, Education, Bhakti & Shakti. Have an auspicious Navratri.
  • The great goddess Maa Durga is a symbol of divine energy and at this time there is an abundance of this energy, especially during prayers. I wish my your life gets fill with all positive energy this Navratri. May you have an auspicious Navratri.
  • May the great goddess Maa Durga bless you generously this Navratri and bring you all you pray for and more. Have an auspicious Navratri.
  • As we worship the great goddess Maa Durga, may we channel some of her powerful peaceful every into ourselves and become closer to her. Have an auspicious Navratri.
  • May all your prayers on the nine days and nine nights of Navratri bring you good health, good luck, fame and fortune. Wishing you a very Happy Navratri.
  • May the great goddess Maa Durga provide you the strength, wisdom and courage to overcome all obstacles in life. Have an auspicious Navratri.
  • If you start your day and finish your day with a sincere prayer to the great goddess Maa Durga, everything will go well. May you have an auspicious Navratri

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

Navratri Wishing Messages-

1- May Goddess Durga Shower
All Her Blessings on You
And Your Family.
HAPPY NAVRATRI!

2- May the nine days and nine nights of Navratri
Bring your good health and fortune.
Wishing you a very Happy Navratri.

3- May Maa Durga bless you and your family
With 9 forms of blessings- Fame, Name, Wealth,
Prosperity, Happiness, Education,
Health, Power and Commitment.
Happy Navratri

4- May Goddess Durga
provide you the strength
to overcome all obstacles in life.
Shubh Navratri!

5-May this Navratri Fill Your life with the colors
Of Happiness and Prosperity.
Wishing You and Your Family
A very Happy Navratri

6- Maa Durga ka sada rahe ashirvad;
dhan, samridhi, sukh aur kamiyabi ka de aapko aashirvad;
Navrati ki nau raatein roshan kar dein aapka Jeevan;
Navratri ki shubh kamnayein.

7- Mata ke charno mein sukh aur sansar hai;
Maata ke charnon mein khushiyan apram paar hai;
Navratri ki shubh avsar par aapko dher saari badhaiyan.

8- I wish you busy nine days in the service of Durga Maa;
I wish you a colorful festive time;
Best wishes to you on Navratri.
Always keep smiling!!!!

9- May the celebrations of Navratri of brighten the coming year for you and shower you only the best of happiness and joy.
Warm wishes on Navratri

10- I wish that Goddess Durga is always there to protect you from all problems in life.

11- May this Navratri be full of happiness and good health for you

12- Happy Navratri to you

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

Auspicious ocassion of Navratri-

Sending my best wishes on the auspicious occasion of Navratri;
Wishing you a joyous and prosperity;
May you find good health and happiness in blessings of Maa Durga!!!

Maa Durga ka sada rahe ashirvad….
dhan, samridhi, sukh aur kamiyabi ka de aapko aashirvad….
Navrati ki nau raatein roshan kar dein aapka Jeevan….
Navratri ki shubh kamnayein.

The time for celebration has come…
Wishing a very Happy Navratri to you mom;
Let us celebrate this Navratri with euphoria and zest to welcome good times.

I hope that on the pious occasion of Navratri you are bless with good health and prosperity
Wishing a very Happy Navratri to my dearest mother.

Happy Navratri Messages and SMS
“What is that bright light?
From where does this fragrance coming ?
This gentle breeze, cool air, hearty music;
Oh! its Navaratri… Happy Navaratri”
May this Navratri brighten up your life
With joy, wealth, and good health.
Wishing you a Happy Navratri

Good wishes for a joyous Navratri,
with plenty of peace and prosperity.
Happy Navratri

This festival brings a lot of colors in our lives.
May bright colours dominate in your life.
Happy Navratri

May Maa Durga Illuminate Your Life
With Countless Blessings Of Happiness.
Happy Navratri.

Lakshmi donates the internal wealth
Of virtues or divine qualities.
Happy Navratri

Ma Durga is a Mother of the Universe,
She represents the infinite power of the universe
And is a symbol of a female dynamism.
Happy Navratri

Jai Mata Di Sharad Navratri-

May GOD DURGA give prosperous to you and your family.

May her blessings be always with you. JAI MAATA DI.

Happy Navratri

Maa Durga Means she who is incomprehensible to reach.
Happy Navratri

Our hearty Greetings to everyone on the auspicious occasion of Navratri.
May Maa Durga always guide & bless all of us.

May the blessing of Maa Durga guide you on the right path
And help you in all your endeavors.
Warm wishes of Navratri to all.

Happy Navratri – May the divine blessings
Of the goddess of power, Maa Durga,
Be with you on always! Jai Mata Di!

Long live the tradition of Hindu culture and as the generations have passed by Hindu culture is get stronger and stronger let us keep it up. Best Wants for Navratri!

“Chand ki chandani, Basant ki bahar ,
Phoolo ki khushbu, Apno ka pyar ,
Mubarak ho aapko NAVRATRI ka Tyohar ,
Sada khush rahe aap aur apka Parivar !!!”

“Khushian Ho Overflow ,
Masti Kabhi Na Ho Low ,
Apnonka Surur Chaya Rahe ,
Dil Me Bhari Maya Rahe ,
Shohrat Ki Ho Bauchhar ,
Aisa Aaye Aapke Liye Dandia Ka teyohar ,
Happy Durga Puja”

“Mubarak ho aapko NAVRATRI
Bajre ki roti ,
aam ka achar ,
suraj ki kirne, khushiyo ki bahar ,
chanda ki chandni, apano ka pyar ,
mubarak ho aapko
‘NAVRATRI’ ka tyohar.”

“Kya hai paapi kya hai ghamandi
maa k dar par sabhi shees jhukate
milta hai chain tere dar pe maiya
jholi bharke sabhi hai jaate
HAPPY NAVRATRI”

“Maiya Hai Meri Sheronwali
Shan Hai Ma Ki Badi Nirali
Sacha Hai Ma Ka Darbar
Maiya Ka Jawab Nahi .
Unche Parbat Bhawan Nirala
Bhawan Mein Dekho Singh Vishala
Saacha Hai Maa Ka Darbar
Maiya Ka Jawab Nahi .
Happy Navratri”

Navratri Pujan Vidhi-

नवरात्रि पूजन विधि, कलश स्थापना का मुहूर्त एवं कथा-

शक्ति की प्रतीक मां दुर्गा की उपासना का पर्व है नवरात्रि। चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से शुरू होने वाले ‘वासन्तिक’ नवरात्रि के साथ ही हिन्दू नववर्ष का भी शुभारम्भ होता है। नौ दिनों तक मनाये जाने वाले इस पर्व में प्रत्येक दिन मां दुर्गा के विभिन्न नौ रूपों की पूजा की जाती है।

माता के यह नौ रूप हैं− श्री शैलपुत्री, श्री ब्रह्मचारिणी, श्री चंद्रघंटा, श्री कूष्मांडा, श्री स्कंदमाता, श्री कात्यायनी, श्री कालरात्रि, श्री महागौरी और श्री सिद्धिदात्री। यह पर्व साल में दो बार आता है। एक शारदीय नवरात्र, दूसरा चैत्रीय नवरात्र।

कलश और माता-

नवरात्रि के पहले दिन कलश और माता की चौकी स्थापित करने का विधान है और उसके बाद पूरे 9 दिनों तक माता की पूजा कर कन्याओं को भोजन कराना चाहिए और उन्हें यथासम्भव उपहार इत्यादि देने चाहिए।

कुछ लोग पूरे नवरात्रि व्रत रखते हैं तो कुछ लोग इस पर्व के पहले और आखिरी दिन ही व्रत रखते हैं। व्रतियों को चाहिए कि नवरात्रि के पहले दिन प्रातःकाल उठकर स्नान आदि करके मंदिर में जाकर माता के दर्शन कर पूजा करें या फिर घर पर ही माता की चौकी स्थापित करें।

घटस्थापना मुहूर्त- Navratri-

इस वर्ष नवरात्रि 18 मार्च, रविवार से शुरू हो रही है और घटस्थापना का मुहूर्त सुबह 6 बजकर 31 मिनट से लेकर 7 बजकर 46 मिनट तक है।

घटस्थापना की कुल अवधि 1 घंटा 15 मिनट है। यह मुहूर्त प्रतिपदा तिथि के आधार पर निर्धारित किया गया है।

चौकी स्थापित करने में उपयोग आने वाली वस्तुएं-

माता की चौकी को स्थापित करने में जिन वस्तुओं की आवश्यकता पड़ती है उनमें गंगाजल, रोली, मौली, पान, सुपारी, धूपबत्ती, घी का दीपक, फल, फूल की माला, बिल्वपत्र, चावल, केले का खम्भा, चंदन, घट, नारियल, आम के पत्ते, हल्दी की गांठ, पंचरत्न, लाल वस्त्र, चावल से भरा पात्र, जौ, बताशा, सुगन्धित तेल, सिंदूर, कपूर, पंच सुगन्ध, नैवेद्य, पंचामृत, दूध, दही, मधु, चीनी, गाय का गोबर, दुर्गा जी की मूर्ति, कुमारी पूजन के लिए वस्त्र, आभूषण तथा श्रृंगार सामग्री आदि प्रमुख हैं।

इस तरह करें पूजन

घट की स्थापना करके तथा नवरात्रि व्रत का संकल्प करके पहले गणपति तथा मातृक पूजन करना चाहिए फिर पृथ्वी का पूजन करके घड़े में आम के हरे पत्ते, दूब, पंचामूल, पंचगव्य डालकर उसके मुंह में सूत्र बांधना चाहिए। घट के पास गेहूं अथवा जौ का पात्र रखकर वरूण पूजन करके मां भगवती का आह्वान करना चाहिए।

विधिपूर्वक मां भगवती का पूजन तथा दुर्गा सप्तशती का पाठ करके कुमारी पूजन का भी माहात्म्य है। कुमारियों की आयु एक वर्ष से 10 वर्ष के बीच ही होनी चाहिए। अष्टमी तथा नवमी महातिथि मानी जाती है। नवदुर्गा पाठ के बाद हवन करके ब्राह्मणों को भोजन कराना चाहिए।

माता की भक्ति में डूब जाते हैं लोग- Navratri-

नवरात्रि पर्व के दौरान पूरा देश माता की भक्ति में डूब जाता है। माता के मंदिरों में इन 9 दिनों श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ती है और जगह−जगह माता की पूजा कर प्रसाद बांटा जाता है। इस दौरान विभिन्न जगहों पर छोटे बड़े स्तर पर माता का जागरण भी कराया जाता है। देश भर के मंदिरों में इस दिन मां भगवती का पूरा श्रृंगार कर उनकी पूजा की जाती है।

पर्व से जुड़ी परम्पराएँ और नियम- Navratri-

नवरात्रि पर्व से जुड़ी कुछ परम्पराएं और नियम भी हैं जिनका श्रद्धालुओं को अवश्य पालन करना चाहिए। इन नौ दिनों में दाढ़ी, नाखून व बाल काटने से परहेज करना चाहिए। इन दिनों घर में लहसुन, प्याज का उपयोग भोजन बनाने में नहीं करना चाहिए। लोगों को छल कपट करने से भी बचना चाहिए।

कथा− सुरथ नामक राजा अपना राजकाज मंत्रियों को सौंपकर सुख में रहता था। कालान्तर में शत्रु ने उसके राज्य पर आक्रमण कर दिया। मंत्री भी शत्रु से जा मिले। पराजित होकर राजा सुरथ तपस्वी के वेश में जंगल में रहने लगा। वहां एक दिन उसकी भेंट समाथि नामक वैश्य से हुई। वह भी राजा की तरह दुखी होकर वन में रह रहा था। दोनों महर्षि मेधा के आश्रम में चले गए।

महर्षि मेधा ने उनके वहां आने का कारण पूछा तो उन्होंने बताया कि यद्यपि हम लोग अपने स्वजनों से तिरस्कृत होकर यहां आए हैं लेकिन उनके प्रति हमारा मोह टूटा नहीं है। इसका कारण हमें बताइए−

भक्तिसे जुड़ी परम्पराएँ और नियम- Navratri-

महर्षि ने उन्हें उपदेश देते हुए कहा कि मन शक्ति के अधीन है। आदिशक्ति भगवती के विद्या तथा अविद्या के दो रूप हैं। विद्या ज्ञान स्वरूपा है तो अविद्या अज्ञान रूपा।

अविद्या मोह की जननी है। भगवती को संसार का आदिकरण मानकर भक्ति करने वाले लोगों का भगवती जीवन मुक्त कर देती हैं। राजा तथा समाधि नामक वैश्य ने देवी शक्ति के बारे में विस्तार से जानने का आग्रह किया तो महर्षि मेधा ने बताया कि कालान्तर में प्रलयकाल के समय क्षीर सागर में शेष शैया पर सो रहे भगवान विष्णु के कानों से मधु तथा कैटभ नामक दो राक्षस पैदा होकर नारायण की शक्ति से उत्पन्न कमल पर विराजित भगवान ब्रह्मा जी को मारने के लिए दौड़े।

ब्रह्माजी ने नारायण को जगाने के लिए उनके नेत्रों में निवास कर रही योगनिद्रा की स्तुति की। इसके परिणामस्वरूप तमोगुण की अधिष्ठात्री देवी योगनिद्रा भगवान के नेत्र, मुख, नासिका, बाहु, हृदय तथा वक्षस्थल से निकलकर भगवान ब्रह्मा के सामने प्रस्तुत हुईं। नारायण जी जाग गए।

उन्होंने उन दैत्यों से पांच हजार वर्ष तक बाहु युद्ध किया। महामाया ने पराक्रमी दैत्यों को मोहपाश में डाल रखा था। वे भगवान विष्णु जी से बोले कि हम आपकी वीरता से संतुष्ट हैं। वरदान मांगिए। नारायण जी ने अपने हाथों उनके मरने का वर मांगकर उनका वध कर दिया।

देवी के प्रभाव का वर्णन- Navratri-

इसके बाद महर्षि मेधा ने आदिशक्ति देवी के प्रभाव का वर्णन करते हुए कहा कि एक बार देवताओं तथा असुरों में सौ साल तक युद्ध छिड़ा रहा। देवताओं के स्वामी इन्द्र थे तथा असुरों के महिषासुर। महिषासुर देवताओं को पराजित करके स्वयं इन्द्र बन बैठा।

पराजित देवता भगवान शंकर तथा भगवान विष्णु जी के पास पहुंचे। उन्होंने आपबीती कहकर महिषासुर के वध के उपाय की प्रार्थना की। भगवान शंकर तथा भगवान विष्णु को असुरों पर बड़ा क्रोध आया। वहां भगवान शंकर और विष्णु जी तथा देवताओं के शरीर से बड़ा भारी तेज प्रकट हुआ। दिशाएं उज्ज्वल हो उठीं। एकत्रित होकर तेज ने नारी का रूप धारण कर लिया। देवताओं ने उनकी पूजा करके अपने आयुध तथा आभूषण उन्हें अर्पित कर दिए।

इसके बाद महर्षि मेधा ने आदिशक्ति देवी के प्रभाव का वर्णन करते हुए कहा कि एक बार देवताओं तथा असुरों में सौ साल तक युद्ध छिड़ा रहा। देवताओं के स्वामी इन्द्र थे तथा असुरों के महिषासुर। महिषासुर देवताओं को पराजित करके स्वयं इन्द्र बन बैठा। पराजित देवता भगवान शंकर तथा भगवान विष्णु जी के पास पहुंचे।

उन्होंने आपबीती कहकर महिषासुर के वध के उपाय की प्रार्थना की। भगवान शंकर तथा भगवान विष्णु को असुरों पर बड़ा क्रोध आया। वहां भगवान शंकर और विष्णु जी तथा देवताओं के शरीर से बड़ा भारी तेज प्रकट हुआ। दिशाएं उज्ज्वल हो उठीं। एकत्रित होकर तेज ने नारी का रूप धारण कर लिया। देवताओं ने उनकी पूजा करके अपने आयुध तथा आभूषण उन्हें अर्पित कर दिए।

इस पर देवी ने जोर से अट्टहास किया-Navratri

इस पर देवी ने जोर से अट्टहास किया, जिससे संसार में हलचल फैल गई। पृथ्वी डोलने लगी। पर्वत हिलने लगे। दैत्यों के सैन्यदल सुसज्जित होकर उठ खड़े हुए। महिषासुर दैत्य सेना सहित देवी के सिंहनाद की ओर शब्दभेदी बाण की तरह बढ़ा। अपनी प्रभा से तीनों लोकों को प्रकाशित कर देने वाली देवी पर उसने आक्रमण कर दिया और देवी के हाथों मारा गया। यही देवी फिर शुम्भ तथा निशुम्भ का वध करने के लिए गौरी देवी के शरीर से प्रकट हुई थीं।

मनोहर रूप धारण करने वाली भगवती को देखकर- Navratri-

शुम्भ तथा निशुम्भ के सेवकों ने मनोहर रूप धारण करने वाली भगवती को देखकर स्वामी से कहा कि महाराज हिमालय को प्रकाशित करने वाली दिव्य कान्ति युक्त इस देवी को ग्रहण कीजिए। क्योंकि सारे रत्न आपके ही घर में शोभा पाते हैं। स्त्री रत्नरूपी इस कल्याणमयी देवी का आपके अधिकार में होना जरूरी है।

दैत्यराज शुम्भ ने भगवती के पास विवाह प्रस्ताव भेजा। देवी ने प्रस्ताव को ठुकरा कर आदेश दिया कि जो मुझसे युद्ध में जीत जाएगा मैं उसी का वरण करूंगी। कुपित होकर शुम्भ ने धूम्रलोचन को भगवती को पकड़ लाने के उद्देश्य से भेजा। देवी ने अपनी हुंकार से उसे भस्म किया और देवी के वाहन सिंह ने शेष दैत्यों को मौत के घाट उतार दिया। इसके बाद उसी उद्देश्य से चण्ड−मुण्ड देवी के पास गए। दैत्य सेना को देखकर देवी विकराल रूप धारण कर उन पर टूट पड़ीं। चण्ड−मुण्ड को भी अपनी तलवार लेकर ‘हूं’ शब्द के उच्चारण के साथ ही मौत के घाट उतार दिया।

नवरात्रि की कथा- Navratri-

दैत्य सेना तथा सैनिकों का विनाश सुनकर शुम्भ क्रोधित हो गया। उसने शेष बची सम्पूर्ण दैत्य सेना को कूच करने का आदेश दिया। सेना को आता देख देवी ने धनुष की टंकार से पृथ्वी तथा आकाश को गुंजा दिया। दैत्यों की सेना ने कालान्तर में चंडिका, सिंह तथा काली देवी को चारों ओर से घेर लिया। इसी बीच दैत्यों के संहार तथा सुरों की रक्षा के लिए समस्त देवताओं की शक्तियां उनके शरीर से निकल कर उन्हीं के रूप में आयुधों से सजकर दैत्यों से युद्ध करने के लिए प्रस्तुत हो गईं।

देव शक्तियों के आवृत्त महादेव जी ने चंडिका को आदेश दिया कि मेरी प्रसन्नता के लिए तुम शीघ्र ही इन दैत्यों का संहार करो। ऐसा सुनते ही देवी के शरीर से भयानक तथा उग्र चंडिका शक्ति पैदा हुई। अपराजित देवी ने महादेव जी के द्वारा दैत्यों को संदेशा भेजा कि यदि जीवित रहना चाहते हो तो पाताल लोक में लौट जाओ तथा इन्द्रादिक देवताओं को स्वर्ग और यज्ञ का भोग करने दो अन्यथा युद्ध में मेरे द्वारा मारे जाओगे। दैत्य कब मानने वाले थे। युद्ध छिड़ गया। देवी ने धनुष की टंकार करके दैत्यों के अस्त्र−शस्त्रों को काट डाला।

चंडिका माता- Navratri-

जब अनेक दैत्य हार गए तो महादैत्य इतना कहकर चंडिका ने शूल से रक्तबीज पर प्रहार किया और काली ने उसका रक्त अपने मुंह में ले लिया। रक्तबीज ने क्रुद्ध होकर देवी पर गदा का प्रहार किया, परंतु देवी को इससे कुछ भी वेदना नहीं हुई। कालान्तर में देवी ने अस्त्र−शस्त्रों को बौछार से रक्तबीज का प्राणान्त कर डाला। प्रसन्न होकर देवतागण नृत्य करने लगे। रक्तबीज के वध का समाचार पाकर शुम्भ−निशुम्भ के क्रोध की सीमा नहीं रही। दैत्यों की प्रधान सेना लेकर निशुम्भ महाशक्ति का सामना करने के लिए चल दिया। महापराक्रमी शुम्भ भी अपनी सेना सहित युद्ध करने के लिए आ पहुंचा। दैत्य लड़ते−लड़ते मारे गए। संसार में शांति हुई और देवतागण प्रसन्न होकर देवी की स्तुति करने लगे।

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

शिवांशु सिंह सेंगर

Latest 4k Wallpapers of Navratri- 2020

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Jai Ho Mata KI
Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Jai Mata Di
Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Jay Mata Rani
Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Jai Mata Di
Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Dandiya Dance In Navratri

No Garba, gathering of over 200 this Navratri-

No Garba in public places, no gathering of over 200 people and no prasad are some of the guidelines that the government has issued ahead of the Navratri, Dussehra and Diwali festivals in India.

Government Guidelines in this Navratri-

government has issued guidelines for the state ahead of the Navratri, Dussehra and Diwali festivals in India. Garba events in public places and gathering of more than 200 people will not be allowed in Gujarat in view of the coronavirus pandemic.

The government has allow the installation of the figure in public spaces during the Navratri celebration, to prevent the spread of coronavirus infection, devotees will not be allow to touch them. At such public events, no prasad will be distribute, according to the guidelines.

All the guidelines will come into effect from October 16, a day before the Navratri begins.

Government Guidelines for festivals-

  1. The guidelines will be follow during nine-day Navratri celebrations, Dussehra, Diwali, (November 16) and Sharad Purnima (October 30).

2-No public events of Garba and other cultural programmes will be allow in the state during Navratri.

3-Garba/murti (idol) installation and aarti events will be allow at open spaces during Navatri but they will not be allow to be touch in view of the coronavirus infection. Permission of local administration will be require.

4-Distribution of prashad or any other offering will not be allowed.

5-Gathering of more than 200 persons will not be allowed.

6-Duration of such events will be limit to one hour.

7-In areas other than containment zones, social, educational, entertainment, cultural activities, religious functions will also be permitted with certain conditions.

7-Six feet physical distance and floor marking in these events will be required.

8-Face masks are mandatory to contain the spread of coronavirus.

9-Thermal scanner and sanitiser dispensers will be install at such events.

Enjoyment of peace in Navratri-

Navratri is celebra differently in India’s various regions. For many people it is a time of religious reflection and fasting; for others it is a time for dancing and feasting. Among fasting customs are observing a strict vegetarian diet and abstaining from alcohol and certain spices. Dances performed include Garba, especially in Gujarat.

Typically the festival’s nine nights are dedicat to different aspects of the divine feminine principle, or shakti. While the pattern varies somewhat by region, generally the first third of the festival focuses on aspects of the goddess Durga, the second third on the goddess Lakshmi, and the final third on the goddess Sarasvati.

Offering are to the goddess and their various aspects, and rituals are perform in their honour. One popular ritual is Kanya Puja, which takes place on the eighth or ninth day. In this ritual nine young girls are dresses as the nine goddess aspects celebrate during Navratri.

Durga Mata-

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

Among some followers of the goddess Durga, who are particularly living in Bengal and Assam, the festival is the Durga Puja.

Special of Durga Mata her victory over the buffalo-headed demon Mahishasura are worship daily, and on the 10th day (Dussehra) they are take in jubilant processions to nearby rivers or reservoirs for immersion in water. In addition to family observances, the puja, or ritual, days are also celebrate with public concerts, recitations, plays, and fairs.

Dusshera collected in Navratri-

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

In some regions Dussehra is collect into Navratri, and the entire 10-day celebration is knew by that name. Whether throughout the festival or as the 10th day, Dussehra is a time to celebrate the triumphs of good over evil, such as Durga’s victory over Mahishasura.

In some parts of India, Dussehra is associate with the victory of the god Rama over the demon-king Ravana. In North India the Ram Lila (“Play of Rama”) is the highlight of the festival. On successive nights different episodes of the epic poem the Ramayana are dramatize by young actors elaborately costume and mask; the pageant is always climax by the burning of huge effigies of the demons.

Athletic tournaments and hunting expeditions are organiz Some celebrate by erecting bonfires and burning effigies of Ravana, sometimes by stuffing them with fireworks. In many regions Dussehra is consider an auspicious time to begin educational or artistic pursuits, especially for children.

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

Festival year is now began-

Normally, the second half of the year in India is full of celebration and festivals, with so many being celebrate within weeks of one another. It is a great time for families because, in many parts, they together from all over the country in unison to celebrate the festive season.

Almost all the following festivals – Navratri, Dussehra and Diwali – celebrate the triumph of good over evil, and it is a great time to teach kids about India’s history. If you have a kid in the family, now is a great time to teach them about these festivals, and impart some Navratri information for kids to appreciate the importance of the festival better

What is Navratri ?

Navratri is a festival celebrate by Hindus. It is also known by other names in different parts of the country, including Chandra Darshan, Sindoor Tritiya, Chandi Path, Kumari Puja, Sandhi Puja, Mahagauri Puja, and Ayudha Puja, among other names.

There are certain rituals which are observed in different parts of the country during this time. Each region or state has their own ways of celebration and the duration also differs from place to place.

Why and when is Navratri Celebrate-

A festival which is celebrate by Hinduism, Navratri is celebrate for different reasons in different parts of the country. It is also known as Durga Puja everyone respects to Goddess Durga and her nine avatars.

In the North, the celebration is in honour of Lord Ram and his triumph over Lankan King Raavan, who kidnapped Ram’s wife; in the North East, they pray to Goddess Durga and her triumph over evil in the form of the demon Mahishasura.

Navratri Celebrate in Different Parts of India-

Change occur, everything here is unique. Be it language, food, culture, or even the attire vary, depending on which part of the country we find ourselves in. It’s no surprise then that our way of worshipping changes as per our diversified customs and rituals, giving that distinctive regional touch.

Message of Worship-

The message being conveyed in the form of worship may very well be the same, but our way of communicating that message takes on a whole different flavor.

Navratri meaning according to Sanskrit-

Navratri is one such example of celebrating this very diversity. The word Navaratri means nine nights in Sanskrit; nava meaning nine and ratri meaning nights. During these nine nights and ten days, nine different forms of the goddess are worshipped.

It’s almost as if we’re giving ourselves the time and space to rejuvenate and cleanse from within. Let us peek into the different ways of celebrating Navratri across India and witness its sheer diversity.

Navratri Pujan List-

पंडित राकेश शास्त्री ने बताया कि लाल चुनरी, आम के पत्ते, लाल वस्त्र, मौली, श्रृंगार का सामान, दीपक, घी तेल, लंबी बत्ती के लिए रुई या बत्ती, धूप, अगरबत्ती, माचिस, चौकी, चौकी के लिए लाल कपड़ा, नारियल, दुर्गा सप्तशती किताब, कलश, साफ चावल, कुमकुम, फूल, फूलों का हार, चालीसा व आरती की किताब, देवी की प्रतिमा या फोटो, पान, सुपारी, लाल झंडा, लौंग, इलायची, बताशा या मिसरी, कपूर, उपले, फल, मिठाई, कलावा, मेवे की खरीदारी जरूर कर लें।

Navratri 2020-

मां के पावन पर्व नवरात्रि की शुरुआत 17 अक्तूबर से हो रही है। इस साल 17 अक्तूबर से 25 अक्तूबर तक शारदीय नवरात्रि का पावन पर्व मनाया जाएगा।

देश- दुनिया में मां के काफी मंदिर हैं, जहां भक्तों का हर समय तांता लगा रहता है।

आज इस लेख के माध्यम से हम आपको भारत में स्थित उन मंदिरों के बारे में बताएंगे जिनका निर्माण 15वीं शताब्दी में हुआ था।

इन मंदिरों में सालभर भक्तों का तांता लगा रहता है। अगली स्लाइड्स में जानिए उन मंदिरों के बारे में जिनका निर्माण 15वीं शताब्दी में हुआ था….

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

Navratri Celebration In India-

उत्तर भारत में-

उत्तर भारत में, बुराई के राजा रावण पर भगवान राम की जीत के रूप में नवरात्रि मनाई जाती है। इसका समापन दशहरे के दौरान होने वाली रामलीला के समारोहों में होता है।

रावण, कुंभकर्ण के पुतलों को ‘विजयादशमी’ के दिन बुरी शक्तियों पर

अच्छाई (राम) की जीत का जश्न मनाने के लिए जलाया जाता है।

इन नौ दिनों में विशेष पूजा, यज्ञ, होम, व्रत, ध्यान, मौन, गायन और नृत्य द्वारा माँ दिव्य, उनकी संपूर्ण रचना- जीवन के सभी रूपों, कला, संगीत और ज्ञान के सभी रूपों को सम्मानित किया जाता है। उसे अज्ञानता और बुराई के सभी रूपों से मानव जाति के उद्धारकर्ता के रूप में पूजा जाता है।

उत्तर की ओर, नवरात्रि पर उपहार देने का रिवाज आम है। ये मिठाई, भारतीय कपड़े दोनों पुरुषों और महिलाओं के लिए हो सकते हैं, और घर के लिए कुछ उपयोगी भी हो सकते हैं। कन्या पूजन के बारे में दिल्ली की एक वास्तुकार शोभिता शर्मा कहती हैं, “नवरात्रि की मेरी सबसे प्रिय स्मृति को पड़ोसियों द्वारा आठवें और नौवें दिन आमंत्रित किया जा रहा है, और देवी की तरह पूजनीय है। बेशक, इससे मुझे और मेरी गर्लफ्रेंड को मदद मिली और समारोह के अंत में मुझे कुछ पैसे और मिठाइयाँ भी दी गईं। ”

पश्चिमी भारत में-

पश्चिमी भारत में, विशेष रूप से गुजरात राज्य में, नवरात्रि को प्रसिद्ध गरबा और डांडिया-रास नृत्य के साथ मनाया जाता है। गरबा नृत्य का एक सुंदर रूप है, जिसमें महिलाएं एक दीपक वाले बर्तन के चारों ओर सुंदर ढंग से नृत्य करती हैं। शब्द ‘गरबा’ या ‘गर्भ’ का अर्थ गर्भ है, और इस संदर्भ में बर्तन में दीपक प्रतीकात्मक रूप से गर्भ के भीतर जीवन का प्रतिनिधित्व करते हैं। गरबा के अलावा डांडिया नृत्य है, जिसमें पुरुष और महिलाएं छोटे, सजे हुए बांस के डंडों के साथ जोड़े में भाग लेते हैं, जिन्हें उनके हाथों में डांडिया कहा जाता है।

इन डांडियों के अंत में घुँघरू नामक छोटी-छोटी घंटियाँ बाँधी जाती हैं जो जब एक दूसरे से टकराती हैं तो झनझनाहट होती है। नृत्य में एक जटिल लय है। नर्तक एक धीमी गति के साथ शुरू करते हैं, और उन्मादी आंदोलनों में जाते हैं, इस तरह से कि एक सर्कल में प्रत्येक व्यक्ति न केवल अपने डंडे के साथ एक एकल नृत्य करता है, बल्कि शैली में अपने साथी की डांडिया भी मारता है!

गुजरात स्थित होम्योपैथिक डॉक्टर और आर्ट ऑफ़ लिविंग के शिक्षक जीनाक्षी ने उत्सव का वर्णन करते हुए कहा, “गुजरात में हमारी परंपराओं के अनुसार,” हम दस दिनों तक गरबा खेलते हैं, शाम को नौ बजे से लेकर सुबह चार बजे तक। इसमें पुरुष, महिलाएं और यहां तक ​​कि बच्चे भी शामिल हैं। आप, प्रत्येक शहर, चाहे वह अहमदाबाद हो या बड़ौदा, इसमें गेरूआ शैली की ही शैली है। “

उत्तर पूर्वी भारत में-

शरद नवरात्रि के अंतिम पांच दिनों को भारत के उत्तर-पूर्वी हिस्से पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा के रूप में मनाया जाता है। देवी दुर्गा को शेर पर सवार अपने हाथों में विभिन्न हथियारों के साथ दिखाया गया है। सिंह धर्म, इच्छा शक्ति का प्रतीक है, जबकि हथियार हमारे दिमाग में नकारात्मकता को नष्ट करने के लिए आवश्यक ध्यान और गंभीरता को दर्शाते हैं। आठवें दिन पारंपरिक रूप से दुर्गाष्टमी है। देवी दुर्गा की आदमकद आकार की और सजी-धजी मिट्टी की मूर्तियां, जिसमें राक्षस महिषासुर का वध करती हुई दिखाई देती हैं, मंदिरों और अन्य स्थानों पर स्थापित हैं। फिर इन मूर्तियों की पांच दिनों तक पूजा की जाती है और पांचवें दिन नदी में विसर्जित कर दिया जाता है।

जोनाकी, कोलकाता के एक इंजीनियर, शेयर करते हैं, “यहाँ से, नवरात्रि को दुर्गा पूजा के रूप में मनाया जाता है, जिसके लिए हम महीनों पहले से योजना बनाना शुरू करते हैं। पूजा के ये पांच दिन आराम, परिवार और अलग-अलग दुर्गा पूजा पंडालों में जाने के लिए होते हैं, जिनमें से प्रत्येक एक अलग थीम और वाइब के साथ होता है, और निश्चित रूप से, देवी दुर्गा की एक भव्य और आदमकद मूर्ति। कुछ पंडाल सुपर फैंसी होते हैं, जिन्हें बहुत प्रकाश और ध्वनि के साथ किया जाता है, जबकि अन्य अधिक सरल और सुरुचिपूर्ण होते हैं।

दक्षिण भारत में-

दक्षिण भारत में, नवरात्रि कोलू को देखने के लिए दोस्तों, रिश्तेदारों और पड़ोसियों को आमंत्रित करने का समय है, जो अनिवार्य रूप से विभिन्न गुड़िया और मूर्तियों की प्रदर्शनी है। कन्नड़ में, इस प्रदर्शनी को बोम्बे हब्बा, तमिल में बोम्मई कोलु, मलयालम में बोम्मा गुल्लू और तेलुगु में बोम्मा कोलुवु कहा जाता है।

नवरात्रि को कर्नाटक में दशहरा के रूप में जाना जाता है। यक्षगान, पुराणों से महाकाव्य नाटकों के रूप में एक रात का नृत्य नवरात्रि की नौ रातों के दौरान किया जाता है। Omp मैसूर दशहरा बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है और बुराई पर विजय दिखाने वाला है। यह मैसूर के शाही परिवार और उनकी जंबो सावरी द्वारा संचालित राज्य उत्सव के रूप में मनाया जाता है।

दक्षिण भारत के कई हिस्सों में महानवमी (नौवें) दिन बड़ी धूमधाम से अयोध्या पूजा आयोजित की जाती है। इस दिन देवी सरस्वती की पूजा के साथ-साथ कृषि औजार, सभी प्रकार के उपकरण, किताबें, संगीत वाद्ययंत्र, उपकरण, मशीनरी और ऑटोमोबाइल को सजाया और पूजा जाता है।

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

Navratri 10th as Vijay Dashmi-

10 वें दिन को ‘विजयादशमी’ के रूप में मनाया जाता है। यह केरल में “विद्यांबरम” का दिन है, जहाँ छोटे बच्चों को सीखने की पहल की जाती है। दक्षिणी शहर मैसूर में दशहरा को देवी चामुंडी ले जाने वाली सड़कों पर भव्य शोभायात्रा के साथ मनाया जाता है।

अंत में, नवरात्रि वास्तव में हमारे से बहुत बड़ी चीज के साथ जुड़ने के बारे में है और ये अनुष्ठान ऐसे उपकरण हैं जो हमें ऐसा करने में मदद करते हैं। इसके अलावा, ये नौ दिन हमें आराम करने, कायाकल्प करने और खुद से जुड़ने के लिए दिए गए हैं, जो बदले में, हमें अपने प्रियजनों के साथ बेहतर जुड़ने और जीवन का जश्न मनाने में मदद करता है।

नवरात्रि समारोह के बारे में-
Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Idol of Goddess Durga. Festival is celebrated during the whole period of Navaratri for 10 days. Congress Bhawan, Pune, Maharashtra

परंपरागत रूप से, हर साल, शरद ऋतु की शुरुआत में नवरात्रि मनाई जाती है, जब प्रकृति में सब कुछ एक परिवर्तन से गुजरना शुरू होता है। यह हमारे भीतर की आत्मा को महिमामंडित करने के लिए मनाया जाता है – जो अकेले नकारात्मक गुणों (जड़ता, घमंड, जुनून, cravings, aversions, आदि) को नष्ट कर सकता है।

भारत में, नवरात्रि कई मायनों में मनाया जाता है। गुजरात से लेकर पश्चिम बंगाल तक, राष्ट्र में रहस्योद्घाटन होता है, जो गहरे सांस्कृतिक, पारंपरिक और आध्यात्मिक अर्थों में डूबा हुआ है। माँ दिव्य और उनके कई रूपों की पूजा पूरे देश में की जाती है। समारोह में सिर्फ प्रार्थना, जप और ध्यान ही शामिल नहीं है, बल्कि लोग नाचते, गाते, लजीज स्वादिष्ट खाद्य पदार्थों (और प्रसादम) का भी आनंद लेते हैं। विभिन्न राज्यों में नवरात्रि के दौरान उनके उत्सव के परिधानों की धूम रहती है। नवरात्रि से जुड़ी हर छोटी-बड़ी बातों का महत्व है।

नवरात्रि के दौरान गरबा और डांडिया क्यों किया जाता है-

यदि आप इन दो नृत्य रूपों के इतिहास को देखें – गरबा और डांडिया, दोनों गुजरात में उत्पन्न हुए, और नवरात्रि के दौरान किए जाते हैं। नवरात्रि के दौरान आप क्यों पूछ सकते हैं। कारण यह है कि ये नृत्य रूप देवी दुर्गा और राक्षस राजा महिषासुर के बीच नौ दिनों की लड़ाई का एक नाटक (एक नकली-लड़ाई की तरह) हैं, जिसमें देवी विजयी होकर उभरी थीं।

यह वही है जो नवरात्रि का प्रतीक है – बुराई पर अच्छाई की विजय का, भले ही वह बुराई हमारे ही कुटिल और अनुशासनहीन मन से उपजी हो। ये नौ दिन हमें नकारात्मक विचारों को शुद्ध करने और नए सिरे से शुरुआत करने का मौका देते हैं।

गरबा नृत्य-

पारंपरिक रूप से, गरबा एक मिट्टी के बर्तन (गार्बो) के चारों ओर एक दीपक के साथ किया जाता है, जिसे ‘गरबा दीप’ कहा जाता है। यह प्रतिनिधित्व प्रतीकात्मक है। लालटेन जीवन का प्रतीक है – गर्भ में भ्रूण, विशेष रूप से। घड़ा स्वयं शरीर का प्रतीक है, जिसके भीतर देवत्व निवास करता है।

इस मिट्टी के बर्तन के चारों ओर नर्तक अपने हाथों और पैरों के साथ गोलाकार चालें बनाते हैं। यह इशारा जीवन के चक्र का प्रतीक है, जो जीवन से मृत्यु तक पुनर्जन्म की ओर अग्रसर होता है, केवल माता दिव्य को अपरिवर्तित, अपरिवर्तनीय और अजेय बनाता है।

गरबा की वेशभूषा-

गरबा पोशाक में तीन टुकड़े होते हैं – चोली या ब्लाउज, चनिया या लंबी स्कर्ट और एक सुशोभित दुपट्टा। एम्ब्रॉयडरी और मिररवर्क मल्टीहेटेड अटायर पर मिल सकता है, जिससे माहौल जीवंत और जीवंत हो जाएगा। पुरुष कडियु (फुल-स्लीव वाला कुर्ता पहनते हैं, जो छाती पर कड़ा होता है और कमर पर फ्रॉक की तरह चमकता है) के साथ कफनी पजामा (नीचे की ओर एक मल्टी प्लीटेड पैंट्स) और पगड़ी होती है।

डांडिया नृत्य-

इस नृत्य में, दोनों पुरुष और महिलाएं रंगीन और सजी हुई बांस की डंडियों के साथ ऊर्जावान रूप से नृत्य करते हैं, जो उन्हें ढोलक और तबले जैसे वाद्ययंत्रों की धड़कनों से टकराते हैं। नृत्य देवी और दानव के बीच हुई लड़ाई को फिर से बनाने का एक सुंदर तरीका है।

डांडिया के दौरान उपयोग की जाने वाली रंगीन छड़ें देवी दुर्गा की तलवार का प्रतिनिधित्व करती हैं, यही वजह है कि इस नृत्य रूप को ‘द स्वॉर्ड डांस’ के नाम से भी जाना जाता है। बजने वाले वाद्य यंत्रों की आवाजें धातु के गुच्छों की याद ताजा करती हैं जो युद्ध के मैदान पर सुनी जा सकती हैं।

महिलाएं घाघरा (लंबी स्कर्ट), चोली (ब्लाउज) और ओढ़नी (शॉल) पहनती हैं। पुरुष पारंपरिक धोती और कुर्ता पहनते हैं। मिररवर्क, फिर से, इन परिधानों का एक हस्ताक्षर डिजाइन है।

गरबा बनाम डांडिया-

गरबा में एक अधिक भक्तिपूर्ण अपील है, क्योंकि यह देवी के कई दिव्य रूपों की प्रशंसा करते हुए भजन और मंत्रों के लिए किया जाता है। यह आरती करने से पहले किया जाता है। दूसरी ओर, डांडिया आमतौर पर देर शाम के दौरान बजाया जाता है, आरती के बाद, आरोह के बाद।

भले ही यह जानना दिलचस्प है कि हम हर साल इन नृत्य रूपों का प्रदर्शन क्यों करते हैं, असली सार गर्मी और उत्साह में निहित है जब हम अपने परिवार और दोस्तों के साथ नौ दिनों के लिए इकट्ठा होते हैं; आनंद, प्रेम और भक्ति से भरा समय।

भक्ति देवी को निर्देशित की जाती है और हम कृतज्ञता का प्रकटीकरण भी करते हैं जो हम जीवित होने में महसूस करते हैं और इतनी प्रचुरता के साथ धन्य होते हैं। नवरात्रि इन देदीप्यमान नृत्यों और इस कला रूप के बिना अधूरी होगी!

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

नवरात्रि में अगर आप जवारे बो रहे हैं तो जान सकते हैं अपना भविष्य-

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

नवरात्रि का शुभारंभ 10 अक्टूबर से हो रहा है। इन दिनों अगर आप जौ यानी जवारे बोते हैं तो आपको जानकर अचरज होगा कि यह जवारे आपके भविष्य का संकेत भी देते हैं।

अगर अंकुरित जौ का रंग नीचे से आधा पीला और ऊपर से आधा हरा है तो इसका मतलब यह होता है कि आपके आने वाले साल का आधा समय ठीक नहीं रहेगा लेकिन बाद में सब ठीक हो जाएगा।

यदि जौ नीचे से आधा हरा है और ऊपर से आधा पीला तो इसका मतलब यह है कि आपके साल का शुरूआती समय ठीक से बीतेगा लेकिन बाद में आपको परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।

जौ सफेद या हरे रंग में उग रहा है तो यह अत्यंत शुभ संकेत है। अगर ऐसा है तो मान लीजिए कि आपकी पूजा सफल हो गई है और आने वाले समय में खुशियों के दरवाजे खुल जाएंगे। जौ अगर सूखी और पीली होकर झरने लगे तो यह अशुभ संकेत है। ऐसे में आप मां दुर्गा से अपने कष्टों और परेशानियों को दूर करने के लिए प्रार्थना करें। नवरात्रि की अंतिम तिथि को नवग्रह के नाम से 108 बार हवन में आहुति दें। निश्चित रूप से लाभ मिलेगा।

बाजारों में बढ़ी चहल पहल-

यह मार्केट की रौनक मेरठ के आबूलेन की हैं, जहा मां की एक से बढ़कर एक मूर्तियां आपको देखने को मिलेंगी. साथ ही माँ की चुनरी, मुकुट सहित श्रृंगार का पूरा समान यहां मिलता है और मां के भक्त बड़ी श्रद्धा के साथ माँ के श्रंगार का सामान खरीद रहे हैं. इतना ही नहीं हर भक्त इस बार मां से यही दुआ मांग रहा है कि इस कोरोना महामारी से देश को निजात दिला दे मां. इस बार कोरोना काल को देखते हुए मां और जय माता दी के नाम से बने मास्क भी बाजारों में सजे हैं.

मूर्तियों का श्रंगार-

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
goddess durga idol image

वहीं, कुछ लोग मां की मूर्तियों को लाकर उनका श्रृंगार भी करा रहे हैं. दुकानदारों का कहना है कि जो लोग मां का श्रंगार कराने आते हैं, उन्हें मूर्तियों को एक दिन छोड़कर जाना होता है. वहीं, मां का श्रंगार भी दो तरह से किया जा रहा है. एक पेंटिंग के जरिए मां की मूर्तियों को और खूबसूरत बनाने की अद्भुत कला भी देखने को मिल रही है तो वहीं कुछ दुकानदार मां के मोती और सितारों से जड़े वस्त्र उनके श्रृंगार की सामग्री पहना कर मां को सजाने का काम करते दिखे.

जानें नवरात्रि में हर दिन का शुभ मुहूर्त-

इस बार सर्वार्थसिद्धि योग में नवरात्र शुरू हो रहा है. नवरात्रि के पहले दिन घट स्थापना शुभ मुहूर्त में होगी. ज्योतिष शास्त्र में इस योग को बेहद शुभ माना जाता है, जो पूजा उपासना में अभीष्ट सिद्धि देगा. साथ ही दशहरे तक खरीदारी के लिए त्रिपुष्कर, सौभाग्य और रवियोग जैसे खास मुहूर्त भी रहेंगे. इन शुभ संयोग में प्रॉपर्टी, व्हीकल, फर्नीचर, भौतिक सुख-सुविधाओं के सामान और अन्य तरह की मांगलिक कामों के लिए खरीदारी करना शुभ रहेगा.

यहां जानिए शारदीय नवरात्रि 2020 पूजन सामग्री की पूरी लिस्ट-

लाल चुनरी, आम के पत्‍ते, लाल वस्त्र, मौली, श्रृंगार का सामान, दीपक, घी/ तेल, लंबी बत्ती के लिए रुई या बत्ती, धूप, अगरबत्ती, माचिस, चौकी, चौकी के लिए लाल कपड़ा, नारियल, दुर्गा सप्‍तशती किताब, कलश, साफ चावल, कुमकुम, फूल, फूलों का हार, चालीसा व आरती की किताब, देवी की प्रतिमा या फोटो, पान, सुपारी, लाल झंडा, लौंग, इलायची, बताशे या मिसरी, कपूर, उपले, फल-मिठाई, कलावा, मेवे की खरीदारी जरूर कर लें.

जानें किस दिन कौन सी देवी की होगी पूजा-

17 अक्टूबर- मां शैलपुत्री पूजा घटस्थापना

18 अक्टूबर- मां ब्रह्मचारिणी पूजा

19 अक्टूबर- मां चंद्रघंटा पूजा

20 अक्टूबर- मां कुष्मांडा पूजा

21 अक्टूबर- मां स्कंदमाता पूजा

22 अक्टूबर- षष्ठी मां कात्यायनी पूजा

23 अक्टूबर- मां कालरात्रि पूजा

24 अक्टूबर- मां महागौरी दुर्गा पूजा

25 अक्टूबर- मां सिद्धिदात्री पूजारी

व्रत रखने के ये हैं फायदे-

डाॅ सुनील कुमार ने बताया कि उपवास रखने से डाइजेशन और इक्स्क्रीशन की प्राॅसेस अच्छी होती है। साथ ही हार्ट की पंपिंग प्राॅसेस भी सुधरती है। उपवास के दौरान पाचन तंत्र से जुडे अंगों को आराम मिलता है।

इससे जो ऊर्जा बचती है, उसका उपयोग आत्म चिकित्सा और आत्म मरम्मत में होता है। व्रत रखकर अवरोधों को नष्ट करके, सफाई करके, आंतों, रक्त और कोशिकाओं को शुद्ध किया जा सकता है, जिससे कई शरीरिक बीमारियों से छुटकारा मिल सकता है।

इससे हमारी ऊर्जा शक्ति भी बढ़ती है। fast के दौरान पाचन तंत्र से जुडे अंगों को आराम मिलता है। इससे जो ऊर्जा बचती है, उसका उपयोग आत्म चिकित्सा और आत्म मरम्मत में होता है। fast रखकर अवरोधों को नष्ट करके, सफाई करके, आंतों, रक्त और कोशिकाओं को शुद्ध किया जा सकता है, जिससे कई शरीरिक बीमारियों से छुटकारा मिल सकता है। इससे हमारी ऊर्जा शक्ति (Energy Power) भी बढ़ती है।

ये हैं नुकसान

डाॅ सुनील बंसल ने बताया कि पता चला कई लोग पूरे दिन उपवास रखते हैं, लेकिन शाम का खाना इतना हेवी खा लेते हैं, कि व्रत का कोई मतलब ही नहीं निकलता है। व्रत करें, लेकिन पूरी ईमानदारी के साथ। उपवास गुर्दों को प्रभावित कर सकता है तथा यह गुर्दे की पथरी का कारण भी बन सकता है। इस समस्या से बचने के लिए हमें पर्याप्त पानी, तरल पदार्थ का सेवन करना चाहिये।

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

Navratri fast Dos and Don’ts-

 Consult your doctor if you have any preexisting medical condition. Know whether or not your body can withstand a sudden change in the diet. Therefore, you work fast, only if you are physically fit and mentally determine to keep the fast. Meditate and do simple yoga to relax and unwind. The fast is nothing but a ritual of letting your body get rid of toxins by consuming foods that are easy to digest or not eating anything at all.

Nonetheless, it would help if you plan your fast recipes well in advance so that you have substantial and nutritious foods to eat while fasting. Chalk out a diet plan that you can follow during these nine-days of fasting. This will help you in focusing on the spiritual aspects of the festival without starving. Include foods and fruits rich in fiber, milk and coconut water. Keep yourself well-nourished and hydrated throughout the day.

Navratri fast-

Do not eat packed fast foods. Instead, go for home-made chips and wafers that are healthy and nutritious. Avoid eating deep-fried items to break the fast, in case you opt for a one meal per day fast. Do not exert yourself by undertaking physically strenuous tasks like weight lifting etc. Navratri fast is mean for giving the much-needed rest to your body both physically and mentally. Sleep well, to reap the maximum health benefits of keeping the Navratri fast.

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

Durga Puja 2020: इन शहरों में जाकर देखें नवरात्रि की असली रौनक-

अहमदाबाद, गुजरात
वैसे तो नवरात्रि पूरे गुजरात में धूमधाम से मनाई जाती है, लेकिन अहमदाबाद में इस त्योहार के दौरान का नजारा अद्भुत होता है। यहां नवरात्रि काफी धूमधाम से मनाई जाती है। इस दौरान शहर में जगह-जगह दांडिया और गरबा कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। सुबह से शाम तक श्रद्धालु व्रत रखते हैं और रात के समय गरबा करते हैं। यह एक तरह का म्यूजिकल और कल्चरल कार्यक्रम होता है। इसमें बड़ी संख्या में लोग हिस्सा लेते हैं।

कोलकाता, पश्चिम बंगाल
दुर्गा पूजा और नवरात्रि का त्योहार न केवल कोलकाता बल्कि पूरे पश्चिम बंगाल में ही धूमधाम से मनाया जाता है। कोलकाता के दुर्गा पंडाल पूरे भारत में फेमस है। नवरात्रि के दौरान इन पंडालों की अलग ही छटा देखने को मिलती है। इस दौरान बंगाली महिलाएं एक दूसरे के सिंदूर लगाती हैं और पूजा के अंतिम दिन दुर्गा प्रतिमा को पानी में बहा दिया जाता है।

Food items you can eat during Navratri Fasting-

  • Singhade ka Atta
  • Kuttu ka Atta
  • Rajgira
  • Sama ka Atta
  • Sama ke chawal
  • Sabudana
  • Phool makhana

You eat all kinds of nuts and seeds Spices like rock salt, black pepper, cardamom, cumin powder can be used Seasoning like green chilies, ginger root, coriander leaves, lemon juice.

All kinds of seasonal fruits Raw sugar, Jaggery, Honey, Or regular sugar Milk, curd, coconut water, grated coconut can be consumed.

Food items to avoid during Navratri Fasting-

  • Cereals and Pulses
  • Non-Veg Alcohol
  • Garlic
  • Onion
  • Table salt
  • Packaged food items
  • Candies
  • Chocolates
  • cold drinks
  • Packaged chips
  • Biscuits

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

Navratri in United States of America –

Festivals find an important place in the cultural agenda of the Indian culture in the U.S. Navratri is one important festival which is celebrate gloriously by a vibrant Indo American population of over 2 million.

The celebration of this nine-day nine-night Hindu festival, dedicated to Maa Durga and her nine exihibition of the cosmic energy, is as much known for its deep religiosity as for its invigorating dance and cultural events.

The Sharad Navratri, which marks the onset of winter, has grown very popular in recent times owing to the resplendent decoration, dances and music performances. Besides, it gives people from different communities a great opportunity to blend in and mix socially.

It is literally translate as ‘nine nights’ of devotion. This festival is as much about spirituality and religious connect as it is about celebration through song, music and dance. The latter is the most popular part of the festival in the U.S. as it sees the participation of people from all ages. Though the festival involves rituals of puja and fasting, some choose to do only partial fasting with fruits and ‘vrat’ food or ‘fasting menu’.

Navratri 2019: Know Celebrations, Calendar For The Auspicious Hindu Festival-

Navaratri is celebrate every year all over the country and is celebrate for nine days. The word ‘Navratri’ derived from two Sanskrit words, ‘Nav’ means nine and ‘Ratri’ means night. The actual meaning of Navratri is nine nights. It is basically a Hindu festival which is celebrate for nine days to solely worship Goddess Durga and her various avatar which are the epitome of power.

The festival is dedicate to feminine power or Shakti which is significantly refer to as Goddess Durga. It is celebrate twice a year, once right after the Spring season (Chaitra Navratri) and the other before Autumn (Sharad Navratri). This year Navratri begins on septmber 29 and will be conclude on the day of Dussehra, October 8.

Celebrations-

During these nine nights of Navratri, people observe fast. Cultural programmes are organise, people depict the story of Lord Rama. On the eighth day, Kanya Pujan is observe in which minor girls are worshippe and offered prashad, food and sweets. All over the country Dandiya and Garba programme are organise by community people.

Check out the calendar of Chaitra Navratri 2019-

Pratipada, Ghatasthapana Chandra Darshana Shailputri Puja September 30th: Dwitiya, Brahmacharini Puja October 1: Tritiya, Sindoor Tritiya, Chandraghanta Puja October 2: Chaturthi, Kushmanda Puja, Vinayaka Chaturthi, Upang Lalita Vrat October 3: Panchami, Skandamata Puja October 4: Shashthi, Saraswati Avahan, Katyayani Puja October 5: Saptami, Saraswati Puja, Kalaratri Puja October 6: Ashtami, Durga Ashtami, Mahagauri Puja, Sandhi Puja, Maha Navami October 7: Navami, Ayudha Puja, Navami Homa, Navratri Parana

Dashami, Durga Visarjan, Vijayadashami.

Ancient Rituals of Navratri Puja | Durga Puja-

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

Navratri welcomes the autumn season which open the doors to the harvest month, refreshing weather, cooler climate and favorable time for the celebrants to praise the blessings of life.

Traditionally, this has been celebrated when everything in the surrounding are undergoing changes and transformations. Lets know about ancient rituals of Navratri and some interesting traditions of Durga puja.

Past Tradition of Durga Puja / Navratri-

Animal Sacrifice-

An act of killing an animal or any other living creature as a sacred offering to a deity is no longer in existence.

Hence, is consider as an official crime to practice animal sacrifice as a leading sign inside the temples during the divine nine nights of Navratri. This practice is now rare in contemporary India even in modern societies at this time.

The animal sacrifice folktales in the temples are possibly something from the far far past and primal history. However, offering of Fish as Bhog (Prasada) is still practice in some Durga temples.

Collecting the Mud from Prostitution Region –

In every festival in India, there is a great historical background and meaning associated. Bizarre but true!

The tradition of collecting soil which is ‘punya mati’ to be the Goddess idol in front of prostitute courtyards are consider sacrifice in earlier days and restrict merely to the West Bengal state.

Prostitutes are esteem during Durga puja to reveal the fact that it requires a lot of courage and strength to survive in a male dominated society.

Durga ji admire only on Ashtami Day –

It’s a myth! Veneration of Goddess Durga goes on nine days of Navratri

depending upon how many days; navratri is falling according to the Hindu Solar-Lunar Calendar (not Gregorian calendar). The sacred adoration can even last for 10 long day or just 7 days (depending upon the apparent motion of the planets including the sun, stars and the moon).

As a matter of fact, the last and the final ‘yagna’ (hawan) can either be conducted on ashatmi or on navmi, determined by the navmi puja timing of the navratri. Despite that, no any religious rites are perform on dashmi, apart from Durga Visarjan . As, it is believe that the Goddess is send back to her divine abode post immersion.

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

वेश्यावृत्ति क्षेत्र से मिट्टी एकत्र करना –

भारत में हर त्योहार के पीछे, एक महान ऐतिहासिक पृष्ठभूमि और अर्थ जुड़ा हुआ है। विचित्र लेकिन सत्य! मिट्टी को इकट्ठा करने की परंपरा जिसे of पुण्य मति ’के रूप में जाना जाता है, देवी की मूर्ति को वेश्याओं के आंगन (निशिधो पालिस) के सामने ढाला जाता है, इसे पहले के दिनों में पवित्र माना जाता था और केवल पश्चिम बंगाल राज्य तक सीमित रखा जाता था।

दुर्गा पूजा के दौरान वेश्याओं को इस तथ्य से अवगत कराया जाता है कि पुरुष प्रधान समाज में जीवित रहने के लिए बहुत साहस और शक्ति की आवश्यकता होती है।

दुर्गा श्रद्धा केवल अष्टमी के दिन –

यह एक मिथक है! देवी दुर्गा की आराधना नवरात्रि के नौ दिनों में होती है, जो कितने दिनों पर निर्भर करती है; नवरात्रि हिंदू सौर-चंद्र कैलेंडर (ग्रेगोरियन कैलेंडर नहीं) के अनुसार गिर रहा है। पवित्र आराधना 10 लंबे दिन या सिर्फ 7 दिनों तक भी चल सकती है (सूर्य, सितारों और चंद्रमा सहित ग्रहों की स्पष्ट गति के आधार पर)।

वास्तव में, अंतिम और अंतिम यज्ञ ’(हवन) या तो अष्टमी या नवमी पर किया जा सकता है, जो नवरात्रि के नवमी पूजा के समय द्वारा निर्धारित किया जाता है।

इसके बावजूद, दुर्गा विसर्जन (मूर्ति विसर्जन) के अलावा दशमी पर कोई भी धार्मिक अनुष्ठान नहीं किया जाता है।

के रूप में, यह माना जाता है कि देवी को उनके दिव्य निवास में विसर्जन के बाद वापस भेजा जाता है।

नौ-मुखी रुद्राक्ष-

शक्तिवाद के आदिम उत्साही अनुयायियों को प्राचीन काल में नौ मुखी रुद्राक्ष पर विश्वास था, जो गतिशील देवी दुर्गा की परम शक्ति का प्रतीक था।

यह नौ मुखी रुद्राक्ष पहनने वाले को ऊर्जा, सफलता, क्षमता, समृद्धि, निडरता और क्षमता के साथ आशीर्वाद देने के लिए जाना जाता है

इसके अलावा केतु के विनाशकारी प्रभावों (प्रभावों) को भी कम करता है।

भक्त अब-नवरात्रि और अन्य त्योहारों पर नौ-मुखी रुद्राक्ष की पूजा नहीं करते हैं

त्रिमूर्ति की पूजा कर रहे हैं-

मध्ययुगीन काल के हिंदू नवरात्रि के पूरे काल में देवी के तीन रूपों की पूजा करने में विश्वास करते हैं और उनका अर्थ है भगवान की त्रिमूर्ति (त्रिमूर्ति) से सुधार किया जाना।

तब से अब तक यह प्रवृत्ति थोड़ी बदल गई है-

और हर रात देवी के एक रूप की पूजा भारत के अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग रीति-रिवाजों के साथ की जाती है।

चूंकि, उत्सव और संस्कार अलग-अलग होते हैं, जबकि समर्पण और भक्ति दुनिया भर में समान है।

इसके कारण, प्रशंसक अभी भी इन तीन देवी-देवताओं का सम्मान करते हैं, लेकिन आध्यात्मिक, व्यावहारिक और धार्मिक अनुभवों को तीव्र करने के लिए अपनी अविश्वसनीय नौ अभिव्यक्तियों में।

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

क्षत्रिय का त्योहार (केवल)

आज की परंपरा के विपरीत, पौराणिक किंवदंतियाँ इस तथ्य को रखती हैं: नवरात्रि धार्मिक रूप से हिंदू क्षत्रियों द्वारा मनाई जाती है और केवल प्रधान समय (राजपूतों के शासनकाल) के दौरान भारत में उनका पवित्र पालन था।

क्षत्रिय वंदना-

इस कारण से, उनके परिवारों में पुरुष लड़ाई (युद्धों) में जाते थे और इस आधार पर, उनके जाने के बाद उनके परिवार के सदस्य, दीर्घायु, भलाई और समग्र विजय (उपलब्धि) के लिए देवी अम्बा (शक्ति) की पूजा करते थे।

इस प्रकार, इन नौ देवी-देवताओं की वंदना करने का यह रिवाज क्षत्रिय जाति समुदायों में से एक से आता है।

पूजा-

क्या आप जानते हैं? नवरात्रि के हर दिन मां दुर्गा के अलग-अलग रूपों की पूजा होती है। पहले दिन देवी शैलपुत्री, दूसरे दिन देवी ब्रह्मचारिणी, तीसरे दिन देवी चंद्रघंटा, चौथे दिन देवी कूष्मांडा की पूजा की जाती है।

वहीं पांचवे दिन देवी स्कन्दमाता, छठे दिन देवी कात्यानी, सातवें दिन देवी कालरात्री और आठवें दिन देवी महागौरी की पूजा की जाती है। नौवें और आखिरी दिन देवी सिद्धीदात्री का पूजन कियाा जाता है।

चीजें जो आपने नवरात्रि के बारे में नहीं जानीं-

बहुप्रतीक्षित त्योहारों में से एक है। इस साल यह 10 अक्टूबर, बुधवार से शुरू हो रहा है और 18 अक्टूबर, गुरुवार को समाप्त होगा। हर कोई अपने सबसे अच्छे पोशाक में तैयार होगा। जो लोग अपनी मातृभूमि से दूर रहते हैं वे घर वापस आ जाते हैं जबकि जो वापस नहीं आ पाते वे घर लौट जाते हैं। कई तो पूरे नौ दिन उपवास करते।

कार्यक्रमों में भाग-

कई लोग सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेंगे। संक्षेप में, यह फिर से और प्रिय लोगों के साथ मस्ती, उत्साह, भोजन और यादों का समय होगा।

इससे पहले, आप सभी उत्सव की विधि में डुबकी लगाते हैं,

नवरात्रि के बारे में कुछ रोचक तथ्य जानते हैं और उत्सव की उत्साह दोगुना करते हैं।

शुरू-

“नव” का अर्थ है नौ (9) और “रात्र” का अर्थ है “रात”। इस त्योहार का उत्सव 9 रातों तक फैला रहता है और इस प्रकार नवरात्रि नाम दिया जाता है।

प्रत्येक दिन देवी दुर्गा के एक अवतार के लिए होता है। इन 9 दिनों के लिए, लोग देवी के 9 अलग-अलग अवतारों की पूजा करते हैं।

लोगों का मानना ​​है कि इन 9 देवी-देवताओं में से प्रत्येक के पास अपार शक्ति है और वे सभी मिलकर मां दुर्गा का निर्माण करते हैं।

नवरात्रि के महीने-

यह नवरात्रि वर्ष में पांच बार होती है और 9 दिनों का उत्सव मनाया जाता है। नवरात्रि के महीने मनाए जाते हैं: मार्च / अप्रैल, जून / जुलाई, सितंबर / अक्टूबर, दिसंबर / जनवरी, और जनवरी / फरवरी। लेकिन सितंबर / अक्टूबर के दौरान आयोजित शरद नवरात्रि सबसे लोकप्रिय है।

इसके पीछे भी एक अलग इतिहास है।

भगवान राम ने इसी दिन श्रीलंका में राक्षस राजा रावण के खिलाफ युद्ध जीता था।

इतिहास-

अगले दिन दशहरा है। इसके पीछे भी एक अलग इतिहास है। भगवान राम ने इसी दिन श्रीलंका में राक्षस राजा रावण के खिलाफ युद्ध जीता था। तो, उस जीत को चिह्नित करने के लिए, लोग रावण के बड़े पुतले बनाते हैं और उन्हें जलाते हैं। यह बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है।

नवरात्रि के अगले दिन-

इसके पीछे भी एक अलग इतिहास है। भगवान राम ने इसी दिन श्रीलंका में राक्षस राजा रावण के खिलाफ युद्ध जीता था।

तो, उस जीत को चिह्नित करने के लिए, लोग रावण के बड़े पुतले बनाते हैं और उन्हें जलाते हैं। यह बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है।

महान त्योहार-

दशहरा उत्सव के ठीक 20 दिन बाद एक और महान त्योहार आता है – दिवाली। इस दिन, भगवान राम अपनी पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ 14 साल के निर्वासन से अपनी मातृभूमि अयोध्या लौट आए।

लोग नवरात्रि के दौरान शक्ति या शक्ति के विभिन्न रूपों में माँ दुर्गा की पूजा करते हैं।

वे हैं: दुर्गा, भद्रकाली, अम्बा, अन्नपूर्णा देवी, सर्वमंगला, भैरवी, चंडिका, ललिता, भवानी, और मूकाम्बिका।

पौराणिक कथा-

हमारी पौराणिक कथाओं के अनुसार, महिषासुर – असुरों का राजा आधा भैंसा और आधा आदमी था।

उन्होंने भगवान ब्रह्मा की बड़ी भक्ति के साथ पूजा की और उनके समर्पण को देखकर भगवान बहुत खुश हुए और इस प्रकार उन्हें कुछ भी मांगने के लिए कहा।

इसलिए, महिषासुर ने भगवान ब्रह्मा को अमरता प्रदान करने के लिए कहा।

भगवान ब्रह्मा ने कहा कि कोई भी आदमी उसे नहीं मार सकता।

इसलिए, महिषासुर सबसे मजबूत आदमी बन गया और वह पृथ्वी और स्वर्ग दोनों पर शासन करना चाहता था और जल्द ही देवताओं के साथ लड़ाई शुरू कर दी।

महिषासुर-

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Sculpture of the demon Mahishasura on the top of Chamunda hill in Mysore

जब महिषासुर का अत्याचार असहनीय हो गया, तो सभी देवताओं ने महिषासुर को मारने के लिए देवी दुर्गा को बनाने का फैसला किया।

भगवान ब्रह्मा का वरदान था “कोई मनुष्य कभी महिषासुर का वध नहीं कर सकता”।

खैर, इसका मतलब है कि एक शक्तिशाली महिला उसे मार सकती है। इस प्रकार, देवी दुर्गा सभी देवताओं की सर्वोच्च शक्तियों के साथ अस्तित्व में आईं। यह मिशन एक सफलता थी।

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

महिषासुर देवी दुर्गा-

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

एक और कहानी कहती है कि महिषासुर देवी दुर्गा से शादी करना चाहता था। देवी दुर्गा ने प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया। लेकिन उसने यह भी कहा कि वह महिषासुर से तभी शादी करेगी जब वह उसे युद्ध में हरा सकता है। यह वह लड़ाई है जो 9 दिनों तक चलती रही और इसके अंत में देवी दुर्गा ने महिषासुर का वध किया।

भारत के पूर्वी भाग में एक मान्यता है कि दक्ष की पुत्री उमा या पार्वती जिन्होंने भगवान शिव से विवाह किया था और कैलास पर्वत पर गई थीं और हर साल नवरात्रि के दौरान इस धरती या माता-पिता के घर आती हैं।

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

भक्ति और प्रार्थना-

नवरात्रि के दौरान हम सभी की भक्ति और प्रार्थना हमें मानसिक रूप से स्वस्थ रखती है।

क्योंकि यह दैवीय या आध्यात्मिक शक्तियां न केवल मानव जाति को शक्तियां प्रदान करती हैं, बल्कि पृथ्वी को सूर्य के चारों ओर घूमने के लिए पर्याप्त ऊर्जा भी प्रदान करती हैं, जिससे जलवायु में अन्य परिवर्तन होते हैं, जिससे ब्रह्मांड में संतुलन बना रहता है।

शक्तिशाली शक्ति-

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Jai Mata Di

इन 9 दिनों को तीन दिनों के सेट में विभाजित किया गया है और प्रत्येक सेट का कुछ महत्व है।

पहले तीन दिनों के दौरान, देवी दुर्गा को एक शक्तिशाली शक्ति के रूप में आमंत्रित किया जाता है।

वह दुर्गा के रूप में पूजी जाती हैं, जो सभी अशुद्धियों, बुराइयों और दोषों को नष्ट करने के लिए पृथ्वी पर आती हैं।

नवरात्रि का हर दिन-

आप किसी भी दिन बिना झिझक के आसानी से खरीद सकते हैं। इसलिए इन दिनों में आपको विशेष रूप से मुहूर्त निकालने की आवश्यकता नहीं होती।

चूंकि आप एक नए वाहन की इच्छा कर रहे हैं तो अपनी पूजा के दौरान आप सिर्फ माता का ही ध्यान न करें, बल्कि माता के वाहन अर्थात उनके सिंह को भी श्रद्धाभाव से देंखे।

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

Happy Navratri 2020 to everyone.

Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
OLD PIC OF NAVRATRI
Navratri Wishes Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020
Happy Navratri To all of you

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020

  1. May you have a very Happy Navratri. I hope you have the best pooja and celebrations in life this year.
  2. May the generous goddess Maa Durga brighten your life with countless blessings. I hope your prayers bring happiness and prosperity. Happy Navratri to you!
  3. Though she is infiniate, do not merely take the positive energy from the goddess Durga on this Navratri, but also, make effort to remove the darkness within you and spread positivity. Have an auspicious Navratri.
  4. The very best wishes for a joyous Navratri with lots joy, happiness, peace, prayer and prosperity during these auspicious days. Jai Maa Durga! Have an auspicious Navratri.
  5. May the 9 forms of the great goddesss bless you on these nine days so you will be shower with Name, Fame, Health, Wealth, Happiness, Humanity, Education, Bhakti & Shakti. Have an auspicious Navratri.
  6. As these nights are fill with but the colorful garba and dandiya dances I hope you enjoy this Navratri festival! May the joy of time seep into the whole year. Have an auspicious Navratri.
  7. May the great Goddess Durga maa empower you and your family and all your loved ones with her nine Swaroop of Name, Fame, Health, Wealth, Happiness, Humanity, Education, Bhakti & Shakti. Have an auspicious Navratri.
  8. The great goddess Maa Durga is a symbol of divine energy and at this time there is an abundance of this energy, especially during prayers. I wish my your life gets fill with all positive energy this Navratri. May you have an auspicious Navratri.
  9. May the great goddess Maa Durga bless you generously this Navratri and bring you all you pray for and more. Have an auspicious Navratri.
  10. As we worship the great goddess Maa Durga, may we channel some of her powerful peaceful every into ourselves and become closer to her. Have an auspicious Navratri.
  11. May all your prayers on the nine days and nine nights of Navratri bring you good health, good luck, fame and fortune. Wishing you a very Happy Navratri.
  12. May the great goddess Maa Durga provide you the strength, wisdom and courage to overcome all obstacles in life. Have an auspicious Navratri.
  13. If you start your day and finish your day with a sincere prayer to the great goddess Maa Durga, everything will go well. May you have an auspicious Navratri
  14. May Goddess Durga Shower
    All Her Blessings on You
    And Your Family.
    HAPPY NAVRATRI!
  15. May the nine days and nine nights of Navratri
    Bring your good health and fortune.
    Wishing you a very Happy Navratri.
  16. May Maa Durga bless you and your family
    With 9 forms of blessings- Fame, Name, Wealth,
    Prosperity, Happiness, Education,
    Health, Power and Commitment.
    Happy Navratri
  17. May Goddess Durga
    provide you the strength
    to overcome all obstacles in life.
    Shubh Navratri!
  18. May this Navratri Fill Your life with the colors
    Of Happiness and Prosperity.
    Wishing You and Your Family
    A very Happy Navratri
  19. Maa Durga ka sada rahe ashirvad;
    dhan, samridhi, sukh aur kamiyabi ka de aapko aashirvad;
    Navrati ki nau raatein roshan kar dein aapka Jeevan;
    Navratri ki shubh kamnayein.
  20. Mata ke charno mein sukh aur sansar hai;
    Maata ke charnon mein khushiyan apram paar hai;
    Navratri ki shubh avsar par aapko dher saari badhaiyan
  21. I wish you busy nine days in the service of Durga Maa;
    I wish you a colorful festive time;
    Best wishes to you on Navratri.
    Always keep smiling!!!!
  22. May the celebrations of Navratri of brighten the coming year for you and shower you only the best of happiness and joy.
    Warm wishes on Navratri
  23. I wish that Goddess Durga is always there to protect you from all problems in life.
  24. May this Navratri be full of happiness and good health for you
  25. Happy Navratri to you
  26. Sending my best wishes on the auspicious occasion of Navratri;
    Wishing you a joyous and prosperity;
    May you find good health and happiness in blessings of Maa Durga!!!
  27. Maa Durga ka sada rahe ashirvad….
    dhan, samridhi, sukh aur kamiyabi ka de aapko aashirvad….
    Navrati ki nau raatein roshan kar dein aapka Jeevan….
    Navratri ki shubh kamnayein.
  28. The time for celebration has come…
    Wishing a very Happy Navratri to you mom;
    Let us celebrate this Navratri with euphoria and zest to welcome good times.
  29. I hope that on the pious occasion of Navratri you are bless with good health and prosperity
    Wishing a very Happy Navratri to my dearest mother.
  30. Happy Navratri Messages and SMS
    “What is that bright light?
    From where does this fragrance coming ?
    This gentle breeze, cool air, hearty music;
    Oh! its Navaratri… Happy Navaratri”
    May this Navratri brighten up your life
    With joy, wealth, and good health.
    Wishing you a Happy Navratri
  31. Good wishes for a joyous Navratri,
    with plenty of peace and prosperity.
    Happy Navratri
  32. This festival brings a lot of colors in our lives.
    May bright colours dominate in your life.
    Happy Navratri
  33. May Maa Durga Illuminate Your Life
    With Countless Blessings Of Happiness.
    Happy Navratri.
  34. Lakshmi donates the internal wealth
    Of virtues or divine qualities.
    Happy Navratri
  35. Ma Durga is a Mother of the Universe,
    She represents the infinite power of the universe
    And is a symbol of a female dynamism.
    Happy Navratri
  36. May GOD DURGA give prosperous to you and your family.
  37. May her blessings be always with you. JAI MAATA DI.
  38. Happy Navratri
  39. Maa Durga Means she who is incomprehensible to reach.
    Happy Navratri
  40. Our hearty Greetings to everyone on the auspicious occasion of Navratri.
    May Maa Durga always guide & bless all of us.
  41. May the blessing of Maa Durga guide you on the right path
    And help you in all your endeavors.
    Warm wishes of Navratri to all.
  42. Happy Navratri – May the divine blessings
    Of the goddess of power, Maa Durga,
    Be with you on always! Jai Mata Di!
  43. Long live the tradition of Hindu culture and as the generations have passed by Hindu culture is get stronger and stronger let us keep it up. Best Wants for Navratri!
  44. “Chand ki chandani, Basant ki bahar ,
    Phoolo ki khushbu, Apno ka pyar ,
    Mubarak ho aapko NAVRATRI ka Tyohar ,
    Sada khush rahe aap aur apka Parivar !!!”
  45. “Khushian Ho Overflow ,
    Masti Kabhi Na Ho Low ,
    Apnonka Surur Chaya Rahe ,
    Dil Me Bhari Maya Rahe ,
    Shohrat Ki Ho Bauchhar ,
    Aisa Aaye Aapke Liye Dandia Ka teyohar ,
    Happy Durga Puja”
  46. “Mubarak ho aapko NAVRATRI
    Bajre ki roti ,
    aam ka achar ,
    suraj ki kirne, khushiyo ki bahar ,
    chanda ki chandni, apano ka pyar ,
    mubarak ho aapko
    ‘NAVRATRI’ ka tyohar.”
  47. “Kya hai paapi kya hai ghamandi
    maa k dar par sabhi shees jhukate
    milta hai chain tere dar pe maiya
    jholi bharke sabhi hai jaate
    HAPPY NAVRATRI”
  48. “Maiya Hai Meri Sheronwali
    Shan Hai Ma Ki Badi Nirali
    Sacha Hai Ma Ka Darbar
    Maiya Ka Jawab Nahi .
    Unche Parbat Bhawan Nirala
    Bhawan Mein Dekho Singh Vishala
    Saacha Hai Maa Ka Darbar
    Maiya Ka Jawab Nahi .
    Happy Navratri”

NEWS AND ENTERTAINMENT-

HAPPY NAVRATRI TO EVERYONE IN THIS 2020 PANDEMIC YEAR MATA RANI BLESS YOU WITH ALL BLESSINGS. STAY HAPPY BE SAFE.

Please read our Navratri post share with your friends and family members.

ONCE AGAIN HAPPY NAVRATRI TO EVERYONE

PREVIOUS POST-

FOR GOVERNMENT JOB NOTIFICATION CLICK HERE-

One thought on “Navratri Wishes Whatsapp Qotes Images Wallpaper Sharda Navratri 2020:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!